Movies Based on Gandhi ji : महात्मा गांधी पर आधारित फिल्में

महात्मा गांधी पर अधारित फिल्में | Movies Based on Gandhi ji : यदि किसी हत्यारे की गोली का में शिकार हो जाओ तो ईश्वर का नाम जपते हुए मेरे प्राण छूटे और ऐसे में हमलावर के प्रति मेरे होंठ गुस्से या गाली का एक शब्द भी निकाले तो इतिहास द्वारा दंभी कहलाना मुझे मान्य होगा जी हां दोस्तों यह शब्द है :- महात्मा गांधी जी के वही जिनकी आज जयंती है।

महात्मा गांधी- राष्ट्रपिता- उन कई प्रमुख हस्तियों में से एक हैं जो फिल्म निर्माताओं की पसंदीदा पसंद रही हैं, ब्रिटिश शासन की बेड़ियों से आजादी पाने का उनका संघर्ष भरा जीवन सभी के लिए एक प्रेरणा रहा है।

क्या चाहते थे : गांधी जी

गांधी जी मजदूर , मजलूम, अकलियत, शोषित, दलित और वंचितो की बात किया करते थे वह  मालिकों मजूर के, नौकर औ हुज़ूर के फर्क को मिटाना चाहते थे।

आज हम गांधी जयंती पर हमने उनके जीवन और सिद्धांतों पर बनी कुछ शानदार फिल्मों के बारें जानने वाले है.

Movies based on Gandhi ji

यदि आप इस महान व्यक्तित्व के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो आपको इन महान फिल्मों को एक बार जरुर देखना चाहिए : Movies Based on Gandhi ji : महात्मा गांधी पर आधारित फिल्में !


Gandhi : ( 1982 ड्रामा / हिस्ट्री फिल्म )


Movies Based on Gandhi ji : जब मैं महात्मा गांधी पर आधारित फिल्मों के बारे में सोचता हूं तो मेरे दिमाग में पहली फिल्म 1982 में आई गांधी फिल्म आती है ।

ब्रिटिश-भारतीय फिल्म : ऑस्कर विजेता फिल्म गांधी की यादों पर आधारित है ब्रिटिश अभिनेता Ban Kingslay ने महात्मा गांधी की भूमिका निभाई, जिसने सभी के मन में एक लंबे समय तक छाप छोड़ी है ।

यह फिल्म गांधी के जीवन और स्वतंत्रता संग्राम के दौरान उनकी हत्या तक के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करती है।

रिचर्ड एटनबरो द्वारा निर्देशित यह फिल्म कुल मिलाकर गांधी पर बनी अब तक की सबसे बेहतरीन फिल्म रही है।

यह फिल्म भारत में 30 नवंबर 1982 को रिलीज की गई फिल्म की अवधि 3 घण्टे 11 मिनट है।


Gandhi My Father : ( 2007 हिस्ट्री / ड्रामा फिल्म )


Movies Based on Gandhi ji : गांधी जी पर अधिकांश फ़िल्में महात्मा गांधी के जीवन को नाटकीय बनाने की कोशिश करती हैं यहाँ 2007 की फ़िल्म Gandhi My Father है जो की गांधी के बेटे हीरालाल गांधी पर केंद्रित है।

फिल्म में दर्शन जरीवाला ने गांधी जी का किरदार निभाया है जबकि अक्षय खन्ना ने हीरालाल गांधी की भुमिका निभाई है ।

Feroz Abbas Khan के निर्देशन में बनी यह फिल्म महात्मा गांधी और उनके बेटे हीरालाल गांधी के बीच तनावपूर्ण संबंधों को उजागर करने की कोशिश करती है।


The Making of the Mahatma : ( 1996 ड्रामा फिल्म )


1996 की फिल्म द मेकिंग ऑफ महात्मा भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच जिसमें महात्मा गांधी के जीवन को दिखाया गया है।

Shyam Benegal द्वारा निर्देशित यह फिल्म महात्मा गांधी के 21 साल के दक्षिण प्रवास के दौरान उनके जीवन पर केंद्रित है।

यह फिल्म फातिमा मीर द्वारा लिखित किताब द अप्रेंटिसशिप ऑफ ए महात्मा पर आधारित है।


Gandhi to Hitler : ( 2011 वॉर / ड्रामा फिल्म )


गांधी टू हिटलर Rakesh Ranjan Kumar द्वारा निर्देशित यह फिल्म विश्व युद्ध द्वितीय पर आधारित एक दिलचस्प बहुभाषी फिल्म है।

फिल्म में Raghubir Yadav को एडॉल्फ हिटलर के रूप में दिखाया गया है जबकि Avijit Dutt ने फिल्म में गांधी जी के रूप में भूमिका निभाई है

हिटलर ब्रिटिश शासन से भारत को स्वतंत्रता दिलाने की कोशिश करता है जबकि गांधी जी उसे हिंसा रोकने के लिए पत्र लिखते हैं।


Hey Ram : ( 2000 हिस्ट्री / ड्रामा फिल्म )


हिंदी और तमिल में एक साथ बनी यह एक क्राइम ड्रामा फिल्म है कमल हसन और नसीरुद्दीन शाह स्टारर यह फिल्म भारत के विभाजन और महात्मा गांधी की हत्या पर आधारित है.

जहां गांधी को अनुभवी अभिनेता नसीरुद्दीन शाह द्वारा चित्रित किया गया है

वह कमल हसन एक हिंदू कट्टरपंथी साकेत राम की भूमिका निभाते हैं यह फिल्म व्यावसायिक सफलता तो प्राप्त नहीं कर सकी,

लेकिन सन् 2000 में सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म श्रेणी में ऑस्कर में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के रूप में नामांकित हुई।

फिल्म में दक्षिण भारतीय अभिनेता फिल्म के लेखक, निर्देशक और निर्माता हैं।

फिल्म में शाहरुख खान को अमजद अली खान के रूप में विस्तारित कैमियो में भी दिखाया गया है।


Lage Raho Munna Bhai : ( 2006 कॉमेडी / म्यूजिकल फिल्म )


संजय दत्त की मुख्य भूमिका वाली यह व्यावसायिक बॉलीवुड सिनेमा बॉक्स ऑफिस पर हिट रही ।

हालांकि यह फिल्म स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित नहीं है लेकिन मुन्ना भाई एमबीबीएस के इस सीक्वल ने भारत में ‘गांधीगिरी’ (गांधीवादी दर्शन) शब्द गढ़ा। 

यह फिल्म दर्शाती है : कि कैसे गांधीवादी सिद्धांत आज भी जीवन में प्रासंगिक हैं। अंडरवर्ल्ड डॉन की भूमिका निभाने वाले संजय दत्त गांधी की भावना को देखते हैं और उनसे बातचीत करते हैं। 

वह समस्याओं को हल करने के लिए गांधी जी के सिद्धांतों का पालन करता है इस फिल्म में मराठी अभिनेता दिलीप प्रभावलकर ने गांधीजी की भूमिका निभाई है ।


Mahatma : Life of Gandhi 1869-1948 : ( 1968 डॉक्यूमेंट्री फिल्म )


एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म Movies Based on Gandhi ji : जिसमें महात्मा गांधी के जीवन को दिखाया गया  है महात्मा : लाइफ ऑफ गांधी 1968 में रिलीज हुई विट्ठलभाई झावेरी द्वारा निर्देशित है कहानी ज्यादातर गांधी के अपने शब्दों का उपयोग करके सुनाई गई है।

समय अवधि : अंग्रेजी संस्करण 5 घंटे व साथ ही 2 घंटे 20 मिनट का हिंदी संस्करण शामिल है ।


Nine Hours to Rama : (1963 हिस्ट्री / ड्रामा फिल्म)


एक ब्रिटिश फिल्म : नाइन आवर्स टू राम 1963 में बनी फिल्म जिसका निर्देशन मार्क रॉबसन ने किया है

यह फिल्म महात्मा गांधी की हत्या से पहले नाथूराम गोडसे के जीवन के नौ घंटों को दिखाती है फिल्म काल्पनिक कथा ज्यादातर मुसलमानों के साथ हिंसा के अशांत जीवन और उनके परिवार के साथ आने वाली समस्याओं को दर्शाती है। 

जहां जेएस कश्यप ने गांधी की भूमिका निभाई, वहीं होर्स्ट बुकहोल्ज़ ने नाथूराम गोडसे के चरित्र को चित्रित किया।

फिल्म में मुख्य भूमिका के लिए फिल्म में एक भी भारतीय अभिनेता या अभिनेत्री नहीं है क्योंकि सभी पात्र हैं ब्रिटिश, जर्मन या अमेरिकी अभिनेताओं द्वारा चित्रित।


Sardar :  ( 1994 ड्रामा/बॉलीवुड फिल्म )


सरदार 1993 :  “भारत के लौह पुरुष” सरदार वल्लभभाई पटेल पर एक बायोपिक फिल्म । यह फिल्म केतन मेहता द्वारा निर्देशित है।

अन्नू कपूर महात्मा गांधी की भूमिका निभाते हैं व परेश रावल सरदार पटेल की भूमिका निभाते हुए दिखाई देते हैं यह फिल्म सरदार पटेल के जीवन को चित्रित करती है

फिल्म में स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए गांधी जी के साथ पटेल के जुड़ाव को व भारत का स्वतंत्रता आंदोलन , नए भारत और भारत के निर्माण की कहानियों को साझा करती है।


Maine Gandhi Ko Nahin Mara : (2005 ड्रामा फिल्म)


यह फिल्म पूरी तरह महात्मा गांधी पर आधारित नहीं है Jahnu Barua के निर्देशन में बनी यह फिल्म एक सेवानिवृत्त हिंदी प्रोफेसर के जीवन पर केंद्रित है जो मानते हैं कि उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी ।

अनुपम खेर ने सेवानिवृत्त प्रोफेसर की भूमिका निभाई है जबकि उर्मिला मातोंडकर ने फिल्म में उनकी बेटी की भूमिका निभाई है।

समय अवधि : यह फिल्म 30 सितंबर 2005 को रिलीज की गई व इस फिल्म की अवधि 1 घण्टे 40 मिनट है।


गांधी जी की बातें 


आज हमें गांधी जी की बातें किसे बताने की जरूरत है आप गांधी को पढ़ते हैं, मैं गांधी को पढ़ता हूं , मैं गांधी को जानता हूं, आप गांधी को जानते हैं और हम बैठ कर दो मिनट बात कर ले उससे बहुत कुछ होने वाला नहीं है।

हमें गांधी की बातें उनको बताना ज्यादा जरूरी है जो गांधी को बिल्कुल नहीं जानते उनको पता नहीं है कि गांधी का विचार क्या है।

गांधीवाद के लिए प्रयास : आज हमें गांधी जी की याद को , गांधी के विचार को हमें केवल 2 अक्टूबर तक ही सीमित नहीं रखना है कि आज हम गांधी गांधी करें, देश और दुनिया में और कल 3 अक्टूबर को गांधी को भूल जाएं हमें ऐसा नहीं करना है।

Netaji Subhash Chandra Bose Movies : सुभाष चंद्र बोस पर फिल्में ?

आपकी बारी !

हमें गांधी की बातें सिर्फ उन्ही लोगों को नही बतानी जो गांधी को पसंद करते है बल्कि हमें उन्हें भी बतानी है जो गांधी को नहीं जानते और आज हमें एक Revolution लाना है.

गांधी जयंती पर कि हमें गांधी की किताबे तो पढ़नी ही है गांधी पर लिखी गई किताबें भी पढ़नी है।

लेकिन साथ ही साथ में एक फील्ड वर्क भी करना है हमें किसी ना किसी एक गोडसेवादी को गांधीवादी बनाना है क्योंकि जो गांधी को बिल्कुल नहीं जानता यदि वह गांधीवादी बने तो वह गांधी की गांधीवाद की असली सफलता होगी और यही एक व्यापक मुहिम मानी जाएगी ।

क्योंकि गांधीजी भी कहते थे की लंबे लंबे भाषणों से अधिक कहीं मूल्यवान है इंच भर कदम बढ़ाना ।

तो दोस्तो यह थी महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित कुछ शानदार फिल्में : Movies Based on Gandhi ji अगर आप हमारे साथ गांधी जी पर आधारित ओर फिल्में साझा करना चाहते है तो नीचे कमेंट कर जरुर बताएं या हमे ईमेल करे।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment