Teachers Day – जानिए क्यों और कब मनाया जाता है टीचर्स डे ?

Happy Teachers Day 5 Sept : भारत में शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष 5 सितंबर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। वह एक प्रसिद्ध विद्वान व भारत रत्न पुरस्कार विजेता थे, इसके अलावा वह स्वतंत्र भारत के पहले उपराष्ट्रपति व दूसरे राष्ट्रपति थे। वह एक शिक्षक के रूप में, एक शिक्षाप्रद, एक सम्मानित दूत, एक अकादमिक ओर सबसे बढ़कर डॉ राधाकृष्णन एक उत्कृष्ट शिक्षक थे।

teachers day photos
Teachers Day Photos

जैसा कि कहा जाता है, देश का भविष्य बच्चों के हाथों में है, वहीं शिक्षक अपने छात्रों को भविष्य के नेताओं के रूप में विकसित करने के लिए सलाहकार के रूप में काम करते है, पेशेवर और व्यवसाय में सफल होने में शिक्षक हमारी मदद करके वे हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वहीं प्रत्येक शिक्षक आपको एक आदर्श देश का सदस्य ओर नागरिक बनने में मदद करता है।

Teachers Day क्यों मनाया जाता है ?

प्रतिवर्ष शिक्षक दिवस हमारे जीवन में शिक्षकों द्वारा निभाई जाने वाली चुनौतियों, जरूरतों ओर विशेष भूमिका को पहचानने के लिए मनाया जाता है। वहीं 5 अक्टूबर को दुनिया भर में शिक्षक दिवस मनाया जाता है, वहीं भारत में, यह 1962 से 5 सितंबर को मनाया जाता है।

आसान शब्दों में कहें तो प्रतिवर्ष शिक्षक दिवस, शिक्षकों की मेहनत व समाज के निर्माण में उनकी भूमिका को सम्मान देने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

क्योंकि शिक्षक समाज के हर व्यक्ति को सफल व्यक्ति के रूप में स्थापित करने और उन्हें जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित करने में विशेष स्थान रखते हैं।

India Teachers Day कब से मनाया जाता है ?

साल 1962 में जब डॉ. राधाकृष्णन ने भारत के दूसरे राष्ट्रपति का पद संभाला था, तो उनके छात्रों ने 5 सितंबर को एक विशेष दिन के रूप में मनाने की अनुमति लेने के लिए उनसे संपर्क किया, तब डॉ. राधाकृष्णन ने उनसे समाज में शिक्षकों के योगदान को सम्मान देने के लिए 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने का आग्रह किया था।

Teachers Day – Dr. Radhakrishnan Birthday

Teachers Day 5 Sept : भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को डॉ राधाकृष्णन के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है उनका जन्म 5 सितंबर, 1888 को हुआ था। डॉ. राधाकृष्णन एक छोटे शहर के लड़के के रूप में बड़े हुए ओर अपनी शिक्षा की मदद से एक सम्मानित राजनीतिज्ञ और उत्कृष्ट दूरदर्शी शिक्षक बन गए।

शिक्षक दिवस उन अवसरों में से एक है जिसका छात्र ओर शिक्षक समान रूप से इंतजार करते हैं। यह दिन छात्रों के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह उन्हें अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के लिए शिक्षकों के प्रयासों की सराहना करने का अवसर देता है।

Who is Refugee – विश्व शरणार्थी दिवस 2022

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन संक्षिप्त परिचय

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर, 1888 को तिरुत्तानी वर्तमान में तमिलनाडु का तिरुवल्लूर ज़िला में एक गरीब परिवार में हुआ था

डॉ. राधाकृष्णन एक उच्च सम्मानित शिक्षक, दार्शनिक व राजनेता थे।

वह भारत के पहले उपराष्ट्रपति साल 1952 से 1962 तक रहे थे।

डॉ. राधाकृष्णन भारत के दूसरे राष्ट्रपति साल 1962 से 1967 तक भी रहे थे।

डॉ. राधाकृष्णन को साल 1931 में नाइट की उपाधि से सम्मानित किया गया वहीं साल 1954 में वह भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘भारतरत्न’ से सम्मानित हुए थे।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment