Why Pakistan sells Donkey to China: जानें पाकिस्तान चीन को गधा क्यों बेचता है?

Why Pakistan sells Donkey to China: हम सभी जानते है, दोस्तो पाकिस्तान में वर्तमान में इकोनामी संकट चलने लग रहे है लेकिन क्या आप जानते हैं पाकिस्तान का एक बड़ा ही इंटरेस्टिंग सोर्स ऑफ इनकम है चीन को गधे बेचना, सही सुना दोस्तों आपने चाइना को Donkey बेचना वहीं चीन भी बड़ा ही इंटरेस्टेड है गधे खरीदने में।

वहीं बदहाली में तिनके का सहारा ढूंढ रहा पाकिस्तान अब गधों की बिक्री से विदेशी रिजर्व हासिल करेगा। पाकिस्तान की कैबिनेट ने अब गधों की खाल के साथ साथ मवेशियों और डेयरी उत्पादों के चीन एक्सपोर्ट (निर्यात) को भी मंजूरी दे दी है।

चीन से निवेश बढ़ाने के लिए पाकिस्तान ने अपने यहां गधों की संख्या में वृद्धि की है। आज के लेख में हम जानेंगे कि चीन को इतने गधों की आवश्यकता क्यों है, वहीं जानेंगे की पाकिस्तान चीन को गधा क्यों बेचता है? चीन गधों का क्या करता है? क्या गधे सुधार पाएंगे पाकिस्तान के हालात?

Why Pakistan sells Donkey to China

Why Pakistan sells Donkey to China | जानें पाकिस्तान चीन को गधा क्यों बेचता है?

कई पिछले सालों से चीन पाकिस्तान से गधों की खरीदारी में बड़ा दिलचस्पी दिखा रहा है इसके पीछे की खास वजह अफ्रीकी देश नाइजर और बुर्किना फासो जहां से चीन के गधों की सप्लाई पर रोक लगा दी गई।

वहीं चीन अफगानिस्तान से भी गधों की खरीदारी किया करता था लेकिन लंबी वायरस फैलने के कारण वहां से भी खरीदारी बंद कर दी गई इसके बाद चीन ने पाकिस्तान की ओर रुख किया।

वहीं अपनी अर्थव्यवस्था में सुधार का प्रयास कर रहें पाकिस्तान को गधों में एक बड़ी उम्मीद नजर आई है. चीन की जरूरत का अंदाजा लगाते हुए पाकिस्तान में अपने यहां गधों की संख्या बढ़ाने के लिए काफी मशक्कत की है।

पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने ओंकारा जिले में 3000 एकड़ का Donkey Farm (गधों का फार्म) बनवाया है इसमें बड़ी संख्या में हाइब्रिड गधों की नस्ल को पाला गया। इससे पहले भी पाकिस्तान ने Donkey Development Program की शुरुआत की थी।

जिसमें एक बिलियन डॉलर का निवेश का किया गया इसका मकसद चीनी निवेश को अपनी और आकर्षित करना था इन तमाम कोशिशों के बाद पाकिस्तान में गधों की संख्या इजाफा हुआ। पाकिस्तान की इकोनामिक सर्वे के आंकड़ों के अनुसार में गधों की संख्या में कुछ इस प्रकार वृद्धि हुई…

जानें पाकिस्तान में गधों की संख्या…

• साल 2022-2023 में पाकिस्तान में 58 लाख गधे हो गए।
• साल 2021-2022 में पाकिस्तान में 56 लाख गधे हुए।
• साल 2019-2020 में पाकिस्तान में करीब 55 लाख गधे थे।

इस प्रकार चीन को को गधों की सप्लाई करके पाकिस्तान अपनी अर्थव्यवस्था को बढ़ाना चाहता है साथ ही साथ वह चाहता है कि चीन का उनके एग्रीकल्चर सेक्टर में भी निवेश मिले।

यह भी पढ़े:- khatna Kyu Karte Hai – खतना क्या है जानें हिन्दी में

चीन पाकिस्तान से गधे क्यों खरीदता है?

चीन में गधों की खाल की डिमांड (मांग) बहुत ज्यादा है गधों की खाल से चीन एक खास दवा बनाता है जिसे “इजाओ” कहा जाता है जिसका इस्तेमाल इम्यूनिटी बढ़ाने में किया जाता है इसका कोई वैज्ञानिक कारण तो नही बताया जाता है लेकिन चीन के लोगों का विश्वास है कि इजाओ एक पारम्परिक दवा है जो की अच्छा काम करती है इससे इसकी मांग हमेशा बनी रहती है।

चीन द्वारा कॉस्मेटिक इंडस्ट्री में गधों की खाल का इस्तेमाल

चीन में कॉस्मेटिक इंडस्ट्री में भी गधों की खाल की डिमांड रहती है यहां गधों की खाल से कंपनियां कई ब्यूटी प्रोडक्ट बनाकर लाखों रुपए कमाती है पाकिस्तान चीन समेत वियतनाम को पहले भी गधों की खाल निर्यात करता था।

पाकिस्तान ने साल 2013 से 2015 के बीच करीब दो लाख गधों की की खाल एक्सपोर्ट ( निर्यात) की थी लेकिन इससे पाकिस्तान को ये समस्या उत्पन्न हुई कि गधे की खाल के इस्तेमाल के बाद गधे की मीट को Beef(गाय के मांस) के साथ मिलाकर बेचा जाने लगा। जब यह बड़े स्तर पर होने लगा तो पाकिस्तान सरकार ने नवंबर 2015 को गधों की खाल के निर्यात पर रोक लग थीा।

लेकिन अब एक बार फिर बदहाली के दौर में पाकिस्तान ने एक बार फिर से गधे की खाल के निर्यात पर मंजूरी दे दी है।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

You cannot copy content of this page