Rashtriya Balika Diwas 2024 : राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है?

Rashtriya Balika Diwas 2024: राष्ट्रीय बालिका दिवस भारत में बालिकाओं के कल्याण के लिए समर्पित एक दिन है। लोगों के बीच बालिकाओं के स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा की जरूरतों और चिंताओं को संबोधित करने के लिए प्रतिवर्ष 24 जनवरी को यह दिन मनाया जाता है। यह दिन युवा लड़कियों को दहेज, बाल विवाह और घरेलू हिंसा जैसे कानूनों के बारे में सूचित करने के लिए भी है, ताकि वे अपने जीवन में चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हो सकें।

बालिका दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि देश में महिलाओं को विभिन्न प्रकार के भेदभाव और नकारात्मक सामाजिक दृष्टिकोण का सामना करना पड़ता है। भारत में अधिकांश परिवारों में लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार होता  रहा है। इस दिन को मानने का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं को शिक्षित करने और उन्हें सशक्त बनाने के साथ-साथ बाल विवाह और लैंगिक भेदभाव जैसे मुद्दों को संबोधित करना है। भारत में “राष्ट्रीय बालिका दिवस 24 जनवरी और 11 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय बालिका” दिवस मनाया जाता है।

Rashtriya Balika Diwas

भारत में राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य

• भारत की बालिकाओं को सहायता और अवसर प्रदान करना।

• बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना।

• बालिका शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण के महत्त्व के बारे में ज़ोर देना।

• लिंग आधारित पूर्वाग्रहों को दूर करना।

• बालिकाओं के सामने आने वाली असमानताओं के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना।

• कन्या भ्रूण हत्या में कमी लाना।

• लोगों में घटते लिंगानुपात के बारे में जागरूकता पैदा करना।

राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत

देश में बालिकाओं के साथ होने वाले भेदभाव और नुकसान को दूर करने के लिए महिला व बाल विकास मंत्रालय द्वारा साल 2008 में पहली बार भारत में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया था। तब से यह दिन बालिकाओं को शिक्षित करने और उन्हें सशक्त बनाने के साथ-साथ उनके अधिकारों और कल्याण को बढ़ावा देने के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने का एक अवसर है, हर साल ये दिवस बालिकाओं के सामने आने वाली चुनौतियों पर प्रकाश डालता है और उनके अधिकारों, शिक्षा और समग्र कल्याण की वकालत करता है।

इस दिन बालिकाओं की शिक्षा व सशक्तिकरण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों और गतिविधियों जैसे कार्यशालाओं, सेमिनारों, प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। यह लड़कियों के लिए अधिक सम्मान व न्यायपूर्ण समाज की ओर काम करने को याद दिलाता है।

Rashtriya Balika Diwas Theme 2024

राष्ट्रीय बालिका दिवस केवल भारत तक ही सीमित नहीं है, बल्कि अन्य देश जैसे नाइजीरिया, घाना, केन्या के देशों में भी मनाया जाता हैं। राष्ट्रीय बालिका दिवस की Theme हर साल बदलती है, भारत में हर वर्ष इस थीम को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा तय किया जाता है। पिछले कुछ वर्षों में थीम “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ,(लड़कियों को बचाओ, लड़कियों को शिक्षित करो), “उज्ज्वल कल के लिए लड़कियों को सशक्त बनाना” और “समान अधिकार, समान अवसर : सभी लड़कियों के लिए प्रगति” जैसी थीम रखी गई थी।

Rashtriya balika diwas

इस साल सरकार ने अभी तक यह खुलासा नहीं किया है कि 2024 में राष्ट्रीय बालिका दिवस की थीम क्या होगी। हम आपको इसके बारे में जल्द अपडेट करेंगे।

भारत में Rashtriya Balika Diwas कैसे मनाएं

भारत में प्रतिवर्ष 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का तरीका बालिकाओं की शिक्षा के महत्व को बताना और इसे प्राप्त करने में आने वाली चुनौतियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। यह रैलियों, चर्चाओं और अनेको कार्यक्रमों के आयोजनों के माध्यम से किया जाता है।

इस दिन को मनाने का एक अन्य तरीका उन संगठनों का समर्थन करना भी है जो बालिकाओं/महिलाओं को सशक्त बनाने और उनके अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं। इसमें उन संगठनों को दान देना शामिल हो सकता है जो बालिकाओं को शिक्षा व व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करते हैं, साथ ही साथ ऐसे संगठन जो बाल विवाह व लिंग आधारित हिंसा के अन्य रूपों को समाप्त करने के लिए काम करते हैं। उनका समर्थन करना भी हो सकता है।

Rashtriya Balika Diwas

या फिर आप अपने समाज या अन्य समुदाय में लड़कियों का समर्थन व प्रोत्साहन करके भी राष्ट्रीय बालिका दिवस मना सकते हैं, जैसे कि उनकी शिक्षा और आकांक्षाओं के लिए अपना समर्थन व्यक्त करके और उनके लिए एक सकारात्मक रोल मॉडल बनकर आप राष्ट्रीय बालिका दिवस मना सकते है।

यह भी पढे:- Netaji Subhas Chandra Bose Jayanti 2024 – जानिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बारे में

बालिकाओं के लिए भारत सरकार द्वारा उठाए गए कुछ कदम

• बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ।

• सुकन्या समृद्धि योजना।

• सीबीएसई उड़ान योजना।

• बालिकाओं के लिए निःशुल्क या रियायती शिक्षा।

• कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में महिलाओं के लिए आरक्षण।

• माध्यमिक शिक्षा के लिए बालिकाओं को प्रोत्साहन की राष्ट्रीय योजना।

Rashtriya Balika Diwas

FAQs: Rashtriya Balika Diwas 2024

प्रश्न:- राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत किसने की थी ?

उत्तर – महिला व बाल विकास मंत्रालय ने राष्टीय बालिका दिवस की स्थापना की गई ताकि लड़कियों के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाई जा सके इससे उन्हें समान अवसर मिल सके।

प्रश्न:- पहली बार राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया गया था?

उत्तर – पहली राष्ट्रीय बालिका 24 जनवरी, 2008 को मनाया गया था।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment